अनुक्रमणिका

संपादकीय- डॉ. आलोक रंजन पांडेय शोधार्थी बाज़ारवादी ताकतों के बरक्स राहुल-अंजली की मानवीय संवेदना एवं उनकी प्रेम-कथा – डॉ. मीनाक्षी सिंह रहीम कृत दोहावली में उनकी प्रेम विषयक दृष्टि – […]

बाज़ारवादी ताकतों के बरक्स राहुल-अंजली की मानवीय संवेदना एवं उनकी प्रेम-कथा – डॉ. मीनाक्षी सिंह

कहीं सुना है कि Every girl wants a bad boy, who will be good just for her … and … Every boy wants a good girl who will be bad […]

रहीम कृत दोहावली में उनकी प्रेम विषयक दृष्टि – रेखा

अकबरी दरबार के कवियों में रहीम (1556-1638) का विशेष स्थान है । ये बैरम खां खानखाना के पुत्र थे और इनकी माँ हुमायूँ की पत्नी की छोटी बहन थी । […]

स्वाधीनता, आधुनिकता, ग्राम जीवन और परिवर्तन की चेतना का यथार्थ – राम विनय शर्मा

सन् 1967 में प्रकाशित शिवप्रसाद सिंह का ‘अलग अलग वैतरणी’ ग्रामभित्तिक उपन्यासों की चर्चा के प्रसंग में उल्लेखनीय स्थान रखता है। इस उपन्यास का आयतन बड़ा है, पात्रों की संख्या […]

बदलते वक्त में ‘कुदाल’ – बीरज पाण्डेय

केदारनाथ सिंह ‘भारतीयता’ के कवि हैं । उनकी कविताओं में एक साथ भारतीय जीवन के विविध पहलू सिमटे मिलते हैं। बदलते भारत के कैनवास के रंगों में, सजधज में आए […]

कृषक जीवन की समकालीन चुनौतियाँ – प्रभात यादव

कृषि भारतीय जीवन का आधार, रोजगार का प्रमुख स्रोत तथा विदेशी मुद्रा अर्जन का प्रमुख माध्यम है। लेकिन आज भारतीय कृषि के समक्ष बहुत सी चुनौतियाँ हैं। पहले की तुलना […]

भ्रमरगीत-परम्परा में नंददास का ‘भँवरगीत’ – गौरव वर्मा

‘भ्रमरगीत शब्द ‘भ्रमर’ और ‘गीत’ दो शब्दों से मिलकर बना है भ्रमर काले रंग का उड़ने वाला जन्तु होता है जिसे मधुप, मधुकर, अलि आदि विविध नामों से पुकारा जाता […]

आधुनिक हिन्दी में सांस्कृतिक राष्ट्रवाद – वीरेन्दर

राष्ट्रवाद मूल रूप से एक सांस्कृतिक अवधारणा है। राष्ट्रवाद का स्वरूप उस राष्ट्र की धर्म और संस्कृति के द्वारा निर्धरित होता है। भारत में अनादिकाल से ही धर्म मनुष्य के जीवन का प्राणतत्त्व रहा […]

विद्यासागर नौटियाल के उपन्यास ‘सूरज सबका है’ में अभिव्यक्त यथार्थ – शिवानी

विद्यासागर नौटियाल जी यथार्थवादी लेखक के रूप में भी जाने जाते हैं। प्रेमचन्द की लेखन परम्परा के समान ही नौटियाल जी की भी लेखन कला है। वह भी प्रेमचन्द की […]

शमशेर की काव्य- रचना प्रक्रिया – रीता रानी

शमशेर प्रयोगशील कवि हैं जो प्रयोगवाद से चलकर प्रगतिवाद की और आकर्षित हुए फिर नई कविता से जुड़े है। अपनी स्वगत संलाप शैली में कविता करना उनके कवित्व को उनके […]