हिंदी सिनेमा में स्त्री की बदलती छवि – डॉ. उर्मिला शर्मा

‘साहित्य समाज का दर्पण है।’ सिनेमा भी इसीप्रकार समाज और साहित्य का दर्पण है। सिनेमा एक ऐसा माध्यम है जिसकी पहुँच जन-जन तक है। इसके माध्यम से साहित्यिक कृतियों को […]

भारतीय सिनेमा : युवा वर्ग और शिक्षा का अस्तित्व – डॉ. नम्रता जैन और डॉ. रत्नेश कुमार जैन

प्रस्तावना :-          आधुनिक काल में मानव जीवन बहुत व्यस्त हो गया है उसकी आवश्यकताएं बहुत बढ़ गई है। व्यस्तता के इस युग में मनुष्य के पास मनोरंजन का समय […]

फिल्म ‘माझी : द माउन्टेन मैन’ के बहाने दलित संस्कृति और समाज का अध्ययन – महेश सिंह

हिंदी सिनेमा के 100 वर्षों के इतिहास का अध्ययन करने पर पता चलता है कि पौराणिक कथाएँ हिंदी फिल्मों के कथानक के मुख्य स्रोत रहे हैं। खासकर रामायण और महाभारत […]

रजत-पट पर राजस्थानी संगीत के स्वर्णिम हस्ताक्षर – सीमा जोधावत वर्मा

राजस्थान स्थानीय कलाकारों का प्रदेश कहलाता है। देश का यह सबसे बडा प्रदेश आज भी अपनी मिट्टी से जुड़ा दिखायी देता है। मारवाड़-मेवाड़ की अमर शौर्य गाथाओं के साथ यहां […]

हिन्दी सिनेमा पट कथा लेखन और भीष्म साहनी – डॉ. नवीन कुमार

पटकथा अर्थात परदे की कहानी, परदा बड़ा हो या छोटा यानि कि सिनेमा और टेलीविजन दोनो ही माध्यमो के लिए बनने वाली फिल्मों, धारावाहिकों आदि का मूल आधार पटकथा ही […]

हिंदी सिनेमा और नारी – पंकज गौड़

प्रस्तावना:- आधुनिक युग संचार तकनीकी का युग है। संचार माध्यमों के द्वारा ही इंसान हर खोज खबर को देख और पढ़ लेता है। आज इस कोरोना महामारी में लोगों का […]

साहित्य से सिनेमा रूपांतरण तक की मुख्य समस्याएँ – नीरज छिलवार

जब साहित्य को सिनेमा में रूपांतरित किया जाता है। तो कई प्रकार की समस्याएं सामने आती हैं। क्योंकि साहित्य और सिनेमा दोनों अलग-अलग विधा हैं। दोनों के निर्माण का तरीका-प्रक्रिया […]

साहित्य व सिनेमा – डॉ. अंजु कुमारी

साहित्य व सिनेमा समाज को दिशा निर्देश करने वाले प्रमुख मनोरंजनात्मक परंतु उद्देश्य मूलक विद्या है। साहित्य और सिनेमा दोनों पृथक विद्याएँ है। साहित्य पढ्य है वही सिनेमा दृश्य परक […]

हिन्दी सिनेमा के गीतों में महकता सावन और बारिश – डॉ. अनुपमा श्रीवास्तव

शोध सारांश हिन्दी फिल्म संगीत आज अपनी एक अलग पहचान बनाए हुए हैं। शब्द (साहित्य) और स्वर (संगीत) का अद्भुत समन्वय इन गीतों में मिलता है। जब से हिन्दी फिल्मों […]

मीडिया और साहित्य : एक भाषिक अवलोकन – डॉ. राकेश कुमार दुबे

आज भूमण्डलीकरण के दौर में उपभोक्तावादी संस्कृति के कारण सारा विश्व बाज़ार के रूप में स्थापित हो चुका है। बाज़ारवाद से आज समाज का कोई वर्ग, क्षेत्र अछूता नहीं है। […]