भक्तिकालीन नारी संतों की सामाजिक चेतना – ज्योत्स्ना नारायण

जब संत काव्यधारा की बात चलती है तो हमारे सामने कबीर, रैदास आदि पुरुष संतों की छवि उभरकर आती है। हिन्दी साहित्य के अधिकांश आलोचकों ने संत साहित्य की आलोचना […]

सामाजिक अभिव्यक्ति के बदलते स्वरूप में हिंदी सोशल मीडिया की भूमिका – आशीष कुमार पाण्डेय

वर्तमान परिदृश्य में मीडिया अभिव्यक्ति का अग्रणी माध्यम हो गया है। जिसमें सबसे अधिक चर्चित सोशल मीडिया है। सोशल मीडिया ने बहुत कम समय में अधिक गति धारण की है। […]

इंद्रधनुषी दिगंत: त्रिलोचन – शिवम सिंह

‘‘धरती खुशी मना तू बरसात आ गयी है जो बात कल न थी वह बात आ गयी है।’’ बरसात की पहली बूँद ज्यों धरती में समायी त्यों धरती सोधी खुशबू […]

ओस की बूंद : साम्प्रदायिक राजनीति का यथार्थ – डॉ.कमल कुमार

“उन्होंने हाथ बढ़ा कर वह तस्वीर उतारी और दीवार पर पड़ जाने वाले उस दाग को देखने लगे, जो तस्वीर के कारण दीवार पर पड़ा था और अब तक तस्वीर […]

मीरा की भक्ति साधना में सगुण – निर्गुण द्वंद्व – संचना

हिंदी भक्ति काव्य में ‘गिरधर गोपाल’ से अनन्य प्रेम करने वाली मीरा का स्थान महत्वपूर्ण है। वह भारत के कृष्ण भक्तों में एक प्रमुख स्त्री भक्त है। मीरा के सम्पूर्ण […]

कहानियों का बदलता स्वरूप: प्रभात रंजन के विषेष संदर्भ में – डाॅ. नीतू परिहार

कहानी पढ़ना हमेशा ही सुखद रहा है। इसका सबसे बड़ा कारण उसका छोटा होना है। कभी भी कहीं भी हम कुछ समय निकालकर कहानी पढ़ लेते हैं । कहानी पढ़ने […]

क्रांतिकारी निराला साहित्य में स्त्री विमर्श – सुमन 

प्रत्येक मानवतावादी व्यक्ति सकारात्मक शक्ति के संपर्क में शीघ्र ही आ जाता है। जिसकी अमर झलक उसके संपूर्ण व्यक्तित्व और कृतित्व में स्पष्ट दिखती है। ऐसे ही मानवीय मूल्यों एवं […]

पर्यावरण और कवि पंत – गुप्ता अशोक कुमार कृपानाथ

२१वीं सदी के कई महत्वपूर्ण विमर्शों में एक विमर्श पर्यावरण भी है। अत्यधिक कार्बन उत्सर्जन से पृथ्वी का तापमान लगातार बढ़ता चला जा रहा है जिससे खाद्यान की पैदावार में […]

बाजारवाद से निर्मित उपभोक्तावाद में उलझा स्री जीवन ( ‘एक जमीन अपनी’ उपन्यास के परिप्रेक्ष्य में ) – डॉ.सुनील डहाळे

भारत में 1990 के बाद भूमंडलीकरण, उदारीकरण तथा निजीकरण जैसी नई संकल्पनाओं का जन्म हुआ. भूमंडलीकरण की प्रकिया के चलते अर्थकेंद्री समाज में उपभोक्तावाद तथा बाजारवाद का प्रचलन बढ़ा. ‘भारत […]

छायावादी रचनाकारों की दृष्टि में नारी – डाॅ0 बलजीत श्रीवास्तव

नारी आदिम संस्कृति का उद्गम स्थल है, नारी पुरुष की प्रेरणा है और पुरुष संघर्ष का प्रतीक है। ‘‘दोनों की भिन्न प्रकृति से ही परस्पर पूरकता और जीवन की पूर्णता संभव है।’’ याज्ञवल्क्य […]