राकेश धर द्विवेदी की कविताएं

1. हम फिर से आयेंगे तेरे शहर को बसाने हम फिर से आयेंगें तेरे शहर को बसाने पर आज तुम न देखों हमारे पैरों पे पड़े छाले क्यों आंखे भर […]

बिनोद कुमार रजक की कविताएं

1. हिन्द के बाग में  ये कौन आया? हिन्द के बाग में यह कदम किसके है? किसके नेत्र उठे हैं? किसमें जगी ज्वालामुखी जैसी अग्नि हिन्द के खिलाफ में पहचान […]

लव कुमार लव की कविताएं

ढलती शाम दूर कहीं किनारे पर अकेला बैठा है कोई मार रहा है पत्थर पानी पर एक­एक कर झांकता है कभी दूर पहाड़ी के उस पार मन में लिए कुछ […]

साॅफ्टवेयर ( कहानी) – मनोज शर्मा

एक सूनी धूप में जब सब अपने अपने दफ़्तर के या दूसरे काज़ में व्यस्त रहते हैं इक्का दुक्का लोग ही सड़कों पर दिखते हैं पर शाम होते होते सड़क […]

डॉ. संजीव कुमार विश्वकर्मा की पाँच कविताएं

1. दीपक हिंदुस्तान हमारा है सबसे न्यारा, यथा संभव अलग पहचान दिलाना है। दौलत से बढ़कर है इंसानियत, खूबसूरत से रिश्ते को बचाना है। नहीं चाहत चाँद, सितारे पाने की, […]

शर्मिन्दगी  (लधुकथा) – केदारशर्मा ’निरीह’

“अकंलजी , उठिए ,यह मेरी सीट है, यहाँ मैं रूमाल रखकर गया था । जो अब भी पड़ा है’’ । रामनाथजी  ने चौंक कर पीछे देखा जब युवा लड़के ने  […]

रंजीत कुमार त्रिपाठी की कविताएं

गाड़िया लोहार  संदर्भः- उपर्युक्त कविता के माध्यम से मेवाड़ (राजस्थान) मुग़ल युद्ध में महाराणा प्रताप का साथ देने वाली एक जनजाति की वर्तमान दुःखद स्थिति का चित्रण किया गया है, […]

महेश कुमार केशरी की पाँच कविताएं

(1) एक आदिवासी की घोषणा… आदिवासी कह रहा है हमें नहीं चाहिए तुम्हारा विकास! नहीं चाहिए तुम्हारे कंक्रीट के जंगल! हमें नहीं चाहिए बोतल वाला पानी! तुम मत काटो हमारे […]

राकेशधर द्विवेदी की कविताएँ

बाल गीत – माँ तुम बताओ ना कोयल अब कूं-कूं नहीं करती, गौरेया अब फुदकती नहीं दिखती। न ही सुनाई देती है मैना की, मनमोहक बातें। बुलबुल के चुलबुलेपन की, […]

आज प्रकृति चीख रही है (कविता) – डॉ. दीपा

आज प्रकृति चीख-चीखकर करा रही, हमको एहसास, क्या मिला छेड़कर मुझको तुमको, जो भोग रहे हो ये परिणाम। पहले ज़हर हवा में घोला, सांसे अपनी रोक ली, और जल को […]