राष्ट्रवादी पत्रकारिता का दौर – राजीव प्रताप सिंह

भारत की अवधारणा एक ऐसे राष्ट्र की अवधारणा हैं जिसके लिए संघर्ष को निर्माण का आधार रूप में कभी स्वीकार नहीं किया गया. यहाँ आदि काल से ही चिंतन को […]

तर्क की प्रसुप्ति का दौर और नया मीडिया – गोपाल सुलेखा कैलाश झा

सोनू निगम ने १६ अप्रैल को तीन ट्विट किये जिनमें एक धर्म विशेष की प्रार्थना पद्धति पर सवाल था और सवाल भी समस्या की मुद्रा में था| ऐसा सवाल जो […]

सोशल मीडिया में उपभोक्तावादी संस्कृति और विज्ञापन – डॉ. हरदीप कौर

संस्कृति शब्द का सम्बन्ध संस्कार से है जिसका अर्थ है संशोधन करना, उत्तम बनाना, परिष्कार करना। संस्कार व्यक्ति के भी होते है, जाति के भी। जातीय संस्कारों को ही संस्कृति […]

और मुन्ना ने सुनी कहानी (कविता) – सुषमा सिंह

आज की भाग दौड़ भरे जीवन में माता पिता के पास बच्चों की भावनाओं को समझने का, उनकी बातें सुनने का समय ही नहीं है। दादा दादी दूर हो गए […]

मेरी पहचान (कविता) -अमर

मेरी पहचान रोते हुए दुनिया की दहलीज पे जब रखा पहला कदम, माँ की ख़ुशी का एक  अलग सा था  एहसास , एक अजीब  सी खामोशी का आलम छाया था हर चेहरे पे सोचो मुझे देखते ही क्यों हो गए हैं सब बेरहम मां कभी पिताजी के मायूस चेहरे को देखती, तो कभी देखती मेरी नन्ही सी मुस्कान, कभी खुद की किस्मत को कोसती तो कभी जानके सब बन जाती अनजान मैं समझ ही न पाया कि ये कैसा है इंसान जो एक नए मेहमान के आने से हो गए हैं सब परेशान तभी मेरी माँ जैसे दिखने वाले आ गए और इंसान और मुझे छीन के ले जाने को करने लगे घमासान माँ का रो रोके हो गया था तब बुरा हाल पिता जी को भी सूझ नही रहा था कोई समाधान अब समझने लगा मैं की यही है विधि का विधान माँ के पेट से पैदा नही हुआ था कोई इंसान मैं अब बड़ा हो चुका हूँ, पसंद है बस करना श्रंगार साडी, सूट, तालियों के बिना नही चल पाता मेरा संसार अब खोने को अपना मेरा कोई नही रहा इंसान बस याद आता है आज भी माँ का बलिदान अब सब ने दी मुझे एक नई पहचान सीता, रेखा, विमला नाम बहुत पर बुलाते हैं सब मुझे किन्नर हाँ चौकने की है ये बात जो अब समझ मे आयी जिंदगी भर दुनिया मे आने के लिए लड़ता रहा जो अब ये दुनिया ही है उसके लिए परायी मैं किन्नर हूँ पर मैं भी हुँ एक इंसान, दुनिया का ठुकराया हुआ पर,मेरे भी हैं कुछ अरमान, मुझे कुछ मत दो बस जीने दो भाई जान […]

आलोक मिश्रा की दो कविताएँ

तू सबला है तेरे आँचल से अमृत पीकर संसार पनपता खिलता है प्रेम त्याग उपनाम हैं तेरे गंगा सी शीतलता है कर पन्ना धाय को कोटि नमन अपनी शक्ति पहचान […]

पढ़ता रहूँगा तेरा चेहरा (कहानी)-गोपाल निर्दोश

बाप तो उसे उसकी माँ की गोद में ही छोड़कर जाने किस जादूगरनी के साथ कहीं लापता हो गया था। एक माँ का ही सहारा था, वह भी परसों ही […]

प्रेमचंद की कहानी ईदगाह का नाट्य रूपांतरण : तेजस पुनिया  

अमीना – उम्र 50-55 साल ( पुराना घाघरा और सिर पर पुरानी सा चिथड़ा {कपड़ा}) हामिद – उम्र 5 साल  ( छोटी सी निकर और शर्ट जिसका बटन टुटा हुआ) गाँव के चार-छह बच्चे […]

नारी शक्ति – डॉ॰ मधु कौशिक

‘नारी’ शब्द सुनते ही एक विस्तृत संसार की परिकल्पना साकार होने लगती है । वह संसार जहां नारी को ‘पराया धन’ कहा गया । जहां उसे ‘ताड़ने’ की बात कही […]