विहाग वैभव की कविताएँ

1• खुल रहे ग्रहों के दरवाजे मैंने जिस मेज पर रखा अपना स्पर्श उसी से आने लगी दो खरगोशों के सिसकने की आवाज़ हाथ से होकर शिराओं में दौड़ने लगी गिलहरियाँ […]

राहुल प्रसाद की पाँच कविताएँ मौलिक

1.तब समझो प्यार हुआ हमको जब आस मिलन की जागी हो जब हृदय बने अनुरागी हो जब मदहोशी सी छा जाए और ख़ामोशी आ जाए जब एक नाम ही रमते […]

ये बेटी की कैसी आज़ादी (कविता) – आरती

          तूने क्यों मुझे इस रिश्ते से आज़ाद कर दिया ऐसा क्या गुनाह किया था जो मेरा ही तिरस्कार कर दिया ना मोह थी ना माया थी […]

राहुल प्रसाद की गज़लें

1 भूख से बेहाल होकर मरने लगे हैं लोग बेचकर खुद को बसर करने लगे हैं लोग इस शहर में गोलियां अब इस कदर चलने लगी हैं घर  से  कैसे […]

कवि राकेश धर द्विवेदी की कविताएँ

वह नदी नहीं माँ है। मेरे बचपन में मेरी माँ ने एक किस्सा सुनाया कि गंगा माँ को आर-पार की पियरी चढ़ाई और बदले में पुत्ररत्नका उपहार पाया धीरे-धीरे मैं […]

 संवर्धन (कहानी) – सविता मिश्रा

डोरबेल बजी जा रही थी। रामसिंह भुनभुनाये “इस बुढ़ापे में यह डोरबेल भी बड़ी तकलीफ़ देती है।” दरवाज़ा खोलते ही डाकिया पोस्टकार्ड और एक लिफ़ाफा पकड़ा गया। लिफ़ाफे पर बड़े […]

जंगल का भूत (कहानी) – मनीष कुमार सिंह

बाहर जोरों की बारिश हो रही थी। अनेक पेड़ों की पत्तियों से टकराती बॅूदों का शोर नजदीक के जंगल के सन्नाटे को भंग करने की बजाए सघन बना रहा था। […]

सविता मिश्रा की कविता

क्यों मौन हैं क्यों मौन हैं हम सब चीखते-चिल्लाते रहें पर हम मौन ही रहें खड़े | क्या बोले कोई सुनता ही नहीं , अतः हम मौन ही रहें खड़े […]

रश्मि राजगृहार की कविता

कबीर तुमने कहा था रहना नहीं देस विराना है। लेकिन दे दिया पूरी उम्र देस’ को रहने लायक बनाने में निर्गुण की बाते दुहरायी बारम्बार और पाटते रहे जीऊ और […]