राकेशधर द्विवेदी की कविताएँ

हारना वैसे तो हारना एक दुःखदायी क्रिया है लेकिन कभी-कभी यह सुखदायी भी हो जाता है। जैसे हम हार जाते हैं किसी छोटे से बच्चे से खेल में और खुश […]

मनोज कुमार की कविता

पूछा…… क्‍यों……. नहीं ? अम्‍मा………..अम्‍मा………अम्‍मा जाऊँ ? अम्‍मा……….मॉं………….. माई जाऊँ ? देख मैं अकेला तेरे खाने का कर रही हूँ तैयारी ठंडी होने से पहले बिन बुलावे से आना मेरा […]

आदमी ( कविता) – मनोज शर्मा

रोज़ आदमी आदमी नहीं होता कभी कभी आदमी में एक अलग किस्म का आदमी होता है जो बिल्कुल भिन्न अवसरवादी सा होता है जो अलग बिल्कुल सपाट नया चेहरा लिए […]

बिनोद कुमार रजक की कविताएँ

खेल सांत्वना का मृतक परिवार से मिलते हो ऐसे जैसे कुछ हुआ ही नहीं उनके जीवन में सांत्वना के पुल भी तुम बाँधते हो बच्चों के लिखाई -पढाई का सारा […]

 भूख ( कहानी ) – तेजस पूनिया

दुनिया चे ऐसी कोई शह नी जट्टीये। जेड़ी तेरे कदमां चे धरी जाणी नी।। वो लड़की कब से दीप को फोन किए जा रही थी मगर सामने से यह कॉलर […]

लव कुमार की कविताएँ

भूख के साये में दुनिया के सांसारिक सत्यों में एक और अटल सत्य जुड़ना चाहिए जिसके बिना, इन सब सच्चाईयों का कोई औचित्य नहीं भूख भी सच का रूप है […]

राकेशधर द्विवेदी की कविताएँ

गौरैया के हक़ में  गांव के चैपाल में चहकती गौरैया मीठे-मीठे गीत सुनाती गौरैया गुड़िया को धीरे से रिझाती गौरैया याद आज आती है हरे-भरे पेड़ों पर फुदकती गौरैया घर […]

चंगेज के बेटे (कहानी) – समीर कुमार

उनकी मूछें घनी एवं मोटी, आँखें गहरी काली, रंग बिल्कुल गोरा, ललाट उन्नत, कद पांच फुट दस इंच, वजन पच्चासी किलोग्राम और उम्र करीब चौबालिस साल थी | चूंकि, वह […]

सृष्टि भार्गव की कविताएँ

फ़रिश्ता चाँद का  हज़ारों गम हैं बिछुड़न के एक नगीना प्रेम का रात उजयाली करने आया एक फ़रिश्ता चाँद का स्वप्न सुंदर नयन मग्न और दरिया जो शाम का वक़्त […]

डॉ. अवधेश कुमार ‘अवध’ की कविताएँ

1. घातक जाल बिछाये हैं घर – बाहर या प्लॉंट सड़क, हर जगह मौत के साये हैं। हमने ही तो आँख मूँदकर, घातक जाल बिछाये हैं।। साफ सफाई रखकर के, […]