संस्कृत साहित्य में राम – डॉ. रेणु गुप्ता

राम शब्द का उच्चारण होते ही एक बिम्ब सामने उभर आता है । एक धनुर्धारी, सौम्य मनमोहक मुस्कान लिए अद्वितीय रूप । एक ऐसा चरित्र  जो मर्यादा पुरुषोत्तम है, लोकमंगलकारी […]

निराला के साहित्य में राम – डॉ. सरोज पाटिल

सूर्यकान्त त्रिपाठी निराला जी हिन्दी साहित्य के दैदीप्यमान नक्षत्र हैं, उन्होंने अपनी प्रत्येक रचना में अपनी नवोन्मेषशालिनी प्रतिभा का परिचय दिया है। निराला जी का रचनाकाल सामान्यतः 1916 से 1960 […]

संशय की एक रात के राम – उज्ज्वल शुक्ला

वाल्मीकि के द्वारा रामायण लिखने के बाद से हर युग में राम को तथा रामकथा को अपने अनुसार आख्यायित करने का काम कवियों ने किया है ।  बौद्ध काल में […]

वैश्विक साहित्य में राम – सिद्धेश्वर काश्यप  

श्रीराम की वैश्विक सत्ता है। राम का चरित्र मानवीय अस्मिता एवं स्वत्व-बोध से संपृक्त है। राम सौंदर्य के आगार, शील की प्रतिमा और शक्ति के प्रतीक है। राम मर्यादा पुरूषोत्तम […]

भारतीय संस्कृति का अनूदित रूप : रामकथाएं – प्रियंका

शोध सार: सभ्यता की शुरुआत से ही रामकथा हमारे जीवन का महत्त्वपूर्ण अंग रही है। भारत में रामकथा का मैखिक एवं लौकिक स्वरूप निरंतर बदलता रहा है। भारत की भिन्न […]

भारतीय सामाजिक-सांस्कृतिक संकट और रामकथा – शैलेंद्र कुमार सिंह

रामकथा अपने आप में सांस्कृतिक समन्वय की विराट चेष्टा धारण किए हुए है। राम का अलग-अलग दिशाओं में प्रस्थान और संबधित समस्याओं का समाधान धीरे-धीरे उन दिशाओं में राम नाम […]

पूर्वोत्तर भारत के समाज,साहित्य एवं संस्कृति में राम (असमिया भाषा के विशेष सन्दर्भ में) – अजय कुमार

भारतीय समाज, साहित्य और संस्कृति में राम मर्यादा पुरुषोत्तम हैं| राम का शील चरित्र इतना लोकप्रिय है की भारतीय भाषाओं में ही नहीं बल्कि वैश्विक स्तर पर एक विशाल साहित्य […]

नरेंद्र कोहली की रामकथा में स्त्री विमर्श – सुविज्ञा प्रशील

भूमिका- भारतीय वाङ्मय में रामकथा की परंपरा अति प्राचीन है। रामकथा सिर्फ भारत में ही नहीं वरन सारे भारतीय उपमहाद्वीप, दक्षिण एशिया तथा मध्य एशिया तक विभिन्न रूपों में प्रचारित-प्रसारित होती […]

तुलसी साहित्य में राम – डॉ. यशवन्ती देवी                            

तुलसीदास जी भक्तिकाल की सगुण काव्यधारा के महाकवि हैं। इनका एकमात्र महाकाव्य ‘रामचरितमानस’ है। इस महाकाव्य ने तुलसीदास जी को ‘अमर कवि’ के रूप में प्रसिद्ध करवाया है। ‘रामचरितमानस’ उनकी […]