स्त्री मुक्ति का स्वर और तसलीमा नसरीन का साहित्य – शिव दत्त

सृष्टि निर्माण में पुरुषों के समक्ष स्त्रियों का भी बराबर का योगदान रहा किन्तु समाज निर्माण के क्रम में पुरुषों द्वारा स्त्रियों को उचित स्थान प्राप्त नहीं हुआ । विदित […]

भारतेंदु साहित्य और हिंदी नवजागरण की चेतना में अनुवाद की भूमिका – सुमन

भारतेंदु हरिश्चंद्र का साहित्य मोटे तौर पर सन् 1858-1885 के बीच एक ऐसे ऐतिहासिक काल की उपज है, जिसके एक छोर पर भारतीय किसानों और सिपाहियों का राष्ट्रीय विद्रोह था, […]

जंगल की परिधि में आदिवासी एवं जंगल जहाँ शुरू होता है – सरोजा विनोद यादव

आदिवासियत भी वह मोह जाल है, जो प्रकृति की गोद में अपनी आँख मूंदे पड़ा रहना चाहता है | उस अनुभूति में भी अपनेपन का सुख है | वही अनुभूति […]

नैतिक संरचना के अधीन यौन मनोविज्ञान – आरती

किसी भी संरचनागत, सांस्थानिक, सामाजिक व्यवस्था के अंतर्गत उपयोगिता, नैतिकता और औचित्य सहगामी के रूप में कार्य करते दृष्टिगत होते हैं और इसी आधारशिला पर नैतिक रूप से इतरलिंगी यौन […]

अरूण कमल की काव्य-संवेदना – डॉ. साईनाथ उमाटे

अरूण कमल समकालीन हिंदी कविता के एक सशक्त हस्ताक्षर है | हिंदी कविता में जिन रचनाकारों ने समकालीन रचनाशीलता को एक कोटि के तौर पर स्थापित किया, अरूण कमल उनमें […]

इक्कीसवीं सदी में स्त्री संघर्ष के विविध समीक्षात्मक परिदृश्य – आशु मंडोरा

समकालीन समाज में विज्ञापन की दुनिया ने स्त्री की एक नयी तस्वीर बनाई है, जिसमें नारी को एक ओर सशक्तीकरण की ताकत भी मिली है तो साथ ही उसे उपकरण […]

परशुराम चतुर्वेदी और संत साहित्य – श्रुति ओझा

हिंदी भक्ति-साहित्य के अध्ययन क्षेत्र में परशुराम चतुर्वेदी की साहित्य साधना बहुत ही अनुकरणीय एवं श्लाघ्य है। वे साहित्य के क्षेत्र में एक रत्न के समान हैं, जिसके आलोक में […]

भक्ति आंदोलन की सामंत विरोधी भूमिका और कबीर – डॉ. कमलेश कुमारी

प्रारूप           भारत एक बहुसांस्कृतिक, बहुधार्मिक देश है और भारतीय संस्कृति के निर्माण में जहाँ सामाजिक, राजनीतिक  आन्दोलनों का महत्त्व रहा है वहीं भक्ति आन्दोलन की भूमिका भी अपना महत्वपूर्ण […]

भारत, इटली और विंकेलमान – प्रशांत कुमार पाण्डेय

जर्मन दार्शनिकों, कवियों, साहित्यकारों, कलाकारों और धार्मिक लोगों के लिए इटली (विशेष रूप से इटली का दक्षिणी हिस्सा) हमेशा से एक महत्वपूर्ण देश रहा है। सदियों से जर्मन विद्वान इस […]

प्रेमचंद के कथा साहित्य में मानवाधिकार – डाॅ. गरिमा जैन

वस्तुतः मानवाधिकर वे अधिकार हैं जो प्रत्येक मानव को मानव होने के नाते सामाजिक वातावरण में रहते हुए जीवन में विकास एवं उत्कर्ष के लिए प्राप्त होते हैं। मानव अधिकारों […]