अनुक्रमणिका

संपादकीय  डॉ. आलोक रंजन पाण्डेय बातों – बातों में  मैं उबलता हुआ पानी जिसे भाप बन कर ख़त्म होते रहना है (वरिष्ठ आलोचक विश्वनाथ त्रिपाठी जी से प्रियंका कुमारी की […]

मैं उबलता हुआ पानी जिसे भाप बन कर ख़त्म होते रहना है (वरिष्ठ आलोचक विश्वनाथ त्रिपाठी जी से प्रियंका कुमारी की बातचीत)

समकालीन आलोचना जगत् में वरिष्ठ आलोचक विश्वनाथ त्रिपाठी एक महत्वपूर्ण हस्ताक्षर हैं। एक आलोचक के साथ-साथ आप एक सफल सर्जक, इतिहासकार, गद्यकार एक कुशल अध्यापक और एक अच्छे शिष्य भी […]

सामाजिक जीवन के यथार्थ दृष्टा  : मुंशी प्रेमचंद – डॉ. ममता देवी यादव

सारांश आधुनिक हिंदी साहित्य के लेखकों में मुंशी प्रेमचंद जी अग्रणी माने जाते हैं। मुंशी प्रेमचंद जी उर्दू साहित्य में भी उतने ही प्रसिद्ध हैं जितने की हिंदी साहित्य में […]

प्रेमचंद की कहानियों में पारिवारिक मूल्यबोध – डॉ. रूचिरा ढींगरा   

परिवार मानव समाज की सर्वाधिक प्राचीन छोटी किंतु सुसंगठित संस्था है।  पति – पत्नी और उनकी संतान  इसके निर्मायक  होते हैं । वैश्विक सभ्यता और संस्कृति के विकास से प्रभावित […]

मैला आंचल – राजनीतिक परिदृश्य  – महमुदा खानम

किसी अंचल विशेष को आधार बनाकर लिखी जाने वाली औपन्यासिक कृति आंचलिक उपन्यास की श्रेणी में आती है। डॉक्टर धीरेंद्र वर्मा ने हिंदी साहित्य कोश में लिखा है कि ‘लेखक […]

रंगभूमि: युगीन समस्याओं का जीवंत दस्तावेज़ – डॉ. सुनीता

उपन्यास सम्राट प्रेमचंद ने हिंदी उपन्यास को एक नई दिशा देकर एक नए युग का सूत्रपात किया । हिंदी उपन्यास के क्षेत्र में युगांतकारी परिवर्तन हुए । उनके आगमन से […]

सेवा सदन के सुमन की मानसिकता – डाॅ. मुरलीधर अच्युतराव लहाडे

प्रारूप:- सेवा सदन से पूर्व की प्रायः सभी रचनाएँ रूमानी जासूसी और कल्पना लोक में विचरण करनेवाली कथा पर आधारित थी। समाज के वास्तविक स्वरूप को तो देखने का शायद […]

प्रेमचंद की रचनाधर्मिता – डॉ. रेविता बलभीम कावळे

हर एक वस्तु की और देखने की प्रत्येक लेखक की अपनी स्वतंत्र दृष्टि होती है। अपने-अपने दृष्टिकोण से किसी चीज को परखने की सूक्ष्मता हर एक लेखक में होती है। […]

रेणु के मैला आँचल में स्वातंत्र्योत्तर ग्रामीण जीवन – प्रा. डॉ. अर्जुन पवार

फणीश्वरनाथ रेणु हिंदी साहित्य के प्रमुख आँचलिक उपन्यासकार माने जाते हैं | रेणु ने अपने कथासाहित्य में मानवीय सम्बन्धो को केंद्र में रखकर साहित्य की रचना की है | उन्होंने […]

पूस की रात ( हल्कू के बहाने भारतीय किसानों पर एक नज़र ) – बी. डी. मानिकपुरी

हिन्दी साहित्य की विविध विधाओं में कहानी विधा का अपना विशिष्ट स्थान है । आधुनिक काल ही नहीं प्राचीन काल से हमें पुराणों तथा जातक कथाओं के माध्यम से कहानी […]