अनुक्रमणिका

संपादकीय  डॉ. आलोक रंजन पाण्डेय बातों – बातों में  मैं उबलता हुआ पानी जिसे भाप बन कर ख़त्म होते रहना है (वरिष्ठ आलोचक विश्वनाथ त्रिपाठी जी से प्रियंका कुमारी की […]

अनुक्रमणिका

संपादकीय  डॉ. आलोक रंजन पाण्डेय शोधार्थी निर्गुण संत कवियों की संधा भाषा : परंपरा और प्रयोग – श्वेतांशु शेखर हिंदी आलोचकों की विहंगम दृष्टि ( सूरदास के परिप्रेक्ष्य में ) – […]

अनुक्रमणिका

संपादकीय  डॉ. आलोक रंजन पाण्डेय शोधार्थी सूरदास के काव्यलोक की प्रासंगिकता – अनिल कुमार बहुभाषिकता-एक समाज भाषावैज्ञानिक अध्ययन – बीरेन्द्र सिंह हिन्दी यात्रा साहित्य में स्त्री चेतना के स्वर – […]

अनुक्रमणिका

संपादकीय डॉ. आलोक रंजन पाण्डेय बातों – बातों में श्यामा प्रसाद मुखर्जी महाविद्यालय की प्रधानाचार्या डॉ. साधना शर्मा जी से सहचर टीम की आत्मीय बातचीत शोधार्थी लोक-गीतों में नारीस्वर – […]

अनुक्रमणिका

संपादकीय डॉ. आलोक रंजन पाण्डेय बातों – बातों में अभिनेता अखिलेंद्र मिश्र से सहचर टीम की आत्मीय बातचीत   शोधार्थी वैश्वीकरण की पृष्ठभूमि और ‘हंस’ की कहानियाँ – डॉ. संजीव […]

अनुक्रमणिका

संपादकीय  डॉ. आलोक रंजन पाण्डेय शोधार्थी क्रांतिकारी निराला साहित्य में स्त्री विमर्श – सुमन कुमारी पर्यावरण और कवि पंत – गुप्ता अशोक कुमार कृपानाथ छायावादी रचनाकारों की दृष्टि में नारी […]

अनुक्रमणिका

संपादकीय- डॉ. आलोक रंजन पांडेय शोधार्थी मध्ययुगीन समाज : मीरा – विश्वम्भर दत्त काण्डपाल / डॉ. टी. एन. ओझा बाज़ारवादी ताकतों के बरक्स राहुल-अंजली की मानवीय संवेदना एवं उनकी प्रेम-कथा […]

अनुक्रमणिका

संपादकीय- डॉ. आलोक रंजन पांडेय शोधार्थी  साहित्यकार दूधनाथ सिंह का आखिरी कलाम : एक सामाजिक अनुशीलन-    डॉ. दिग्विजय कुमार शर्मा केदारनाथ सिंह के काव्य में प्रकृति – रणजीत कुमार सिन्हा […]

अनुक्रमणिका

संपादकीय- डॉ. आलोक रंजन पांडेय बातों-बातों में  प्रो. गजेंद्र पाठक से सहचर टीम की आत्मीय बातचीत शोधार्थी हिन्दी कथा साहित्य : बाजारवाद और उपभोक्तावाद – डॉ. कमलिनी पाणिग्राही तुलसी की […]

अनुक्रमणिका

संपादकीय ज्वलंत विषय ‘राष्ट्रीय अस्मिता को हिंदी भाषा ही बचा सकती है?’ विषय पर प्रो. हरिशंकर मिश्रा और प्रो. करुणाशंकर उपाध्याय से ज्वलंत चर्चा बातों-बातों में  हंसराज महाविद्यालय की पहली […]