संपादकीय- डॉ. आलोक रंजन पांडेय

शोधार्थी

मध्ययुगीन समाज : मीरा – विश्वम्भर दत्त काण्डपाल / डॉ. टी. एन. ओझा
बाज़ारवादी ताकतों के बरक्स राहुल-अंजली की मानवीय संवेदना एवं उनकी प्रेम-कथा – डॉ. मीनाक्षी सिंह
रहीम कृत दोहावली में उनकी प्रेम विषयक दृष्टि – रेखा
स्वाधीनता, आधुनिकता, ग्राम जीवन और परिवर्तन की चेतना का यथार्थ – राम विनय शर्मा
बदलते वक्त में ‘कुदाल’ – बीरज पाण्डेय
कृषक जीवन की समकालीन चुनौतियाँ – प्रभात यादव
भ्रमरगीत-परम्परा में नंददास का ‘भँवरगीत’ – गौरव वर्मा
आधुनिक हिंदी कविता में सांस्कृतिक राष्ट्रवाद – वीरेन्दर
विद्यासागर नौटियाल के उपन्यास ‘सूरज सबका है’ में अभिव्यक्त यथार्थ – शिवानी
शमशेर की काव्य- रचना प्रक्रिया – रीता रानी

अनुभूति

नीरज त्यागी की कविताएं

तमाशा मज़ेदार न था (कविता) – सलिल सरोज
ज्योति की कविताएं
विश्वम्भर पाण्डेय ‘व्यग्र’ की कविताएं
पहचान (लघुकथा)- डॉ. चंद्रेश कुमार छतलानी
एक महिला मजदूर – दीपक धर्मा

जरा हट के
संगम से सारनाथ – कृष्णानंद
आखिरी दुआ – शिवांजलि पांडेय
मीडिया में साहित्य का बदलता स्वरूप – डा.कृष्णा कुमारी
अज़ान और आरती- दीपक धर्मा
रामगढ़ की गुड़िया – पूर्णिमा वत्स
टीवी में दृश्य नहीं बोलते! – डॉ. कुमार कौस्तुभ

तर्जुमा
समकालीन समाज के भाषिक संवर्धन में अनुवाद की उपयोगिता – सुमन

सिनेमा / फैशन
महिला फिल्मकारों की फिल्मों में स्त्री छवि और बदलता दृष्टिकोण – अंतिमा सिंह
अभिनेता के रूप में भीष्म साहनी – मो. वासिक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *