अनुक्रमणिका

संपादकीय  डॉ. आलोक रंजन पांडेय बातों-बातों में  डी.डी. के प्रसिद्ध कार्यक्रम ‘दो टूक’ में अपने सवालों से पस्त करनेवाले प्रसिद्ध पत्रकार और वरीय एंकर अशोक श्रीवास्तव से सहचर टीम की […]

सोशल मीडिया : दशा और दिशा ‌- प्रवीण कुमार झा

सूचना प्रौ़द्योगिकी के युग में तकनीकी समृद्धि मानव समाजिक सभ्यता के विकास का परिचायक है। सभ्यता का विकास आर्थिक, सामाजिक और राजनीतिक बदलाव को दर्शाता है। मीडिया का नवीन रूप […]

संघ के सत्कार्य और मीडिया का पूर्वाग्रही मूल्यांकन – पीयूष द्विवेदी

आज से नौ दशक पहले 27 सितम्बर, 1925 की तारीख को विजयादशमी के शुभ अवसर पर नागपुर में बीस-पच्चीस लोगों को इकठ्ठा कर जब छत्तीस वर्षीय सामान्य कद-काठी के डॉ […]

न्यू मीडिया का दुरुपयोग : सोशल मीडिया के संदर्भ में – वीरेन्दर

बीसवीं सदी में जनसंचार को नया परिचय मिला जिसमें रेडियों पत्र-पत्रिका, टेलीविजन न सिर्फ मनोरंजन और ज्ञानवर्धन का साधन बना बल्कि इसने ही भारत के जनसंचार के ढाँचे को खड़ा […]

21वीं सदी में तकनीक और मीडिया का बदलता स्वरूप – अतुल वैभव

इक्कीसवीं सदी पूरे विश्व में अनेकों चुनौतियाँ ले कर आया है। गरीबी, कुपोषण, आतंकवाद, प्रदूषण और ऐसी न जाने कितनी चुनौतियों से इस सदी के मानव को दो चार होना […]

युवाओं के कंधों पर सवार न्यू मीडिया – डॉ. अनु चौहान

सुबह-सुबह आंख खुली तो पहली नजर मोबाइल खोजती नजर आई। बगल में ही रखे मोबाइल की स्क्रीन लाइट ने नींद का नशा कुछ कम किया और रही बची कसर फेसबुक […]

सोशल मीडिया और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता- कु. किरण त्रिपाठी

“संचार मनुष्य की मूलभूत आवश्यकता है. आधुनिक मनुष्य के बारे में तो यह बात सौ प्रतिशत लगू होती है. मनुष्य जिस समूह, जिस वातावरण में रहता है वह उसके बारे […]

अभिव्यक्ति के नए आयाम – डॉ. चित्रा सचदेवा

आज जब संसार के सिमट कर नजदीक आने की बात की जाती है,तो इसके पीछे संचार क्रांति की महत्ती भूमिका दृटिगत होती है। औद्योगिक क्रांति के बाद सबसे बड़ी क्रांति […]

भारत में समकालीन मीडिया और मौद्रिक व्यवस्था: विमुद्रीकरण के संदर्भ में – राकेश कुमार दुबे

विकास और राष्ट्र के नाम पर उपजे मौसमी पक्षकारों की जमात की पैन्तरेबाजी से जनता बस ‘सक्रिय-मूकदर्शक’ बनाई जा रही है !! आज सरहद की सुरक्षा में लगे सैनिकों के […]