तुलसी साहित्य में मानवीय मूल्य – दीपक जायसवाल

भक्ति आन्दोलन का प्रादुर्भाव वर्ग, वर्ण, जाति, धर्म और सम्प्रदाय से परे जाकर मनुष्य-सत्य की उद्घोषणा के साथ हुआ था। उनकी भक्ति में सामाजिक विषमता और भेदभाव के लिए जगह […]